Sun. Dec 4th, 2022
up kanpur accident upd 1664651784
Spread the love
Kanpur Accident : ट्रैक्टर के बेकाबू होते ही पूरी ट्रॉली गड्ढे में समा गईं। नीचे पानी भरा था और ऊपर से ट्रॉली गिर गई। सभी लोग उसके नीचे दब गए। इससे 26 जिंदगियां पानी में ही समा गईं। न चीख सके और न ही चिल्ला पाए। करीब एक घंटे तक सभी दबे रहे।

विस्तार

ट्रैक्टर के बेकाबू होते ही पूरी ट्रॉली गड्ढे में समा गईं। नीचे पानी भरा था और ऊपर से ट्रॉली गिर गई। सभी लोग उसके नीचे दब गए। इससे 26 जिंदगियां पानी में ही समा गईं। न चीख सके और न ही चिल्ला पाए। करीब एक घंटे तक सभी दबे रहे। जब भारी संख्या में ग्रामीण और पुलिस बल पहुंचा तब ये ट्रॉली हटाई जा सकी। हालांकि तब तक बहुत देर हो चुकी थी। 26 लोगों की सांसें थम चुकी थी।

Kanpur Accident : ट्रॉली के नीचे एक घंटा दबे रहे लोग, हादसे में गई 26 की जान

Karwa Chauth 2022: करवा चौथ कब है? जाने 2022 में कब बन रहा है शुभ मुहूर्त और चांद निकलने का समय
घटना स्थल से पहले सभी लोग एक छोटे ढाबे पर रुके थे। जहां पर सभी चाय नाश्ता किया था। यहां से चलने के बमुश्किल एक दो मिनट बाद ही हादसा हो गया। ट्रैक्टर इस कदर बेकाबू हुआ कि चालक संभाल ही नहीं पाया। गड्ढे में बारिश का पानी भरा हुआ था। हादसे के बाद आठ-दस लोग इकट्ठा हुए लेकिन वह भीतर जाकर ट्रॉली उठा नहीं पाए। बाद में लोगों के जुटने पर ट्रॉली हटाकर सभी को बाहर निकाला गया। एक ही परिवार के तीन की मौत : हादसे में ग्रामीण कल्लू की पत्नी विनीता आैर उसके दो बच्चे शिवम व सानवी की भी मौत हो गई।
Kanpur Accident
बेबस लोगों के सामने खत्म हो गई जिंदगी : हादसा देख तमाम राहगीर भी वहीं पर खड़ हो गए थे। हर किसी को पता था कि ट्रॉली के नीचे पानी के भीतर दर्जनों लोग दबे हैं। वह बिलख रहे थे कि किसी तरह से उनको बाहर निकाल लिया जाए वरना वो मर जाएंगे लेकिन उनके वश में नहीं था। वह बेबस खड़े रहे। क्योंकि दो चार दस लोगों के वश में नहीं था कि वह ट्रॉली हटाकर उनको बाहर निकाल पाएं।सन्न रह गए लोग, भर आईं आंखें
हादसा देख ग्रामीणों के हाथ पैर फूल गए। पुलिसकर्मी भी सन्न रह गए। तमाम लोग ऐसे थे जिनकी आंखों से आंसू गिरने लगे। वह सकते में आ गए। खासकर कोरथा गांव के रहने वाले। किसी को यकीन नहीं हो रहा था कि इतना भीषण हादसा हुआ और दर्जन लोगों की मौत हो गई।

 सीएम योगी ने की अपील 
हादसे के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर लोगों से अपील की कि प्रिय प्रदेशवासियों, ट्रैक्टर-ट्रॉली का उपयोग सिर्फ कृषि कार्यों और माल ढुलाई के लिए ही करें। इससे सवारियों की ढुलाई कदापि न करें, जीवन अमूल्य है, कृपया लापरवाही न बरतें।

Diwali 2022 Date: अक्टूबर में कब है दिवाली? दीपावली क्यों, कब और कैसे मनाई जाती है?

PFI Banned : पीएफआई पर लगा पांच साल का प्रतिबंध, केंद्र सरकार का बड़ा फैसला

इनकी हुई मौत
विनीता (36), शिवम (4), सानवी (5), मिथिलेश (50), केसकली (40), पलक (4), अंजली (13), किरन (15), खुशी (16), मनीषा (17), अनीता (35), रामजानकी (60), कलावती(50), तारादेवी (50), रवि (10), जयदेवी (50), छोटू (12), गीता (50), मायावती (50), ऊषा (45), शिवानी (12), रानी (50), सुनीता (15), पार्वती (65), रचना (12) व दिव्या (3)।

By Nishant