Sun. Dec 4th, 2022
ED RAID: कोलकाता में कारोबारी के घर समेत 6 जगहों पर ED की रेड, 7 करोड़ की नगदी बरामद, 6 घंटो से नोटों की गिनती जारी
Spread the love

ED RAID: कोलकाता में कारोबारी के घर समेत 6 जगहों पर ED की रेड, 7 करोड़ की नगदी बरामद, 6 घंटो से नोटों की गिनती जारी

संबधित खबरे:-Online Loan बांटने वाली चाइनीज कंपनियों पर ED की छापेमारी! Paytm पर भी हुई स्ट्राइक

Raid : गहलोत के मंत्री पर इनकम टैक्स की रैड ,

ED Raid:कोलकाता के गार्डनरीच इलाके में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने आज के दिन एक बहुत बड़ी रैड मारी है। रिपोर्ट के के अनुसार यहां एक कारोबारी के घर पर ईडी ने छापा मारा है. अब तक 7 करोड़ रुपये कैश बरामद किए जा चुके हैं. कैश की गिनती अब भी जारी है.6 जगह रेड, 8 मशीनें और 7 करोड़ बरामद।

ED RAID: कोलकाता में कारोबारी के घर समेत 6 जगहों पर ED की रेड:
कोलकाता के गार्डनरीच इलाके में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शनिवार को एक बहुत बडा छापा मारा . रिपोर्ट के अनुसार एक ट्रांसपोर्ट कारोबारी के घर पर ईडी(ED) ने छापा मारा है. इस दौरान अभी तक 7 करोड़ रुपये मिल चुके हैं. नोट गिनने के लिए 8 मशीनें लगाई गई हैं. कैश की गिनती अब भी जारी है. ईडी की टीम ने कोलकाता में 6 जगहों पर रेड की कार्रवाई की है. सात सदस्यीय ईडी की टीम में दो महिला अधिकारी के अलावा दो बैंक अधिकारी भी शामिल थे.

मोबाइल गेम ऐप से धोखाधड़ी करते थे 

रिपोर् के मुताबिक मोबाइल गेमिंग ऐप के जरिए लोगों के खातों से पैसे उड़ाने का मामला सामने उजागर हुआ था. इसी सिलसिले में ईडी ने मोके पर कार्रवाई की है. मोबाइल गेम ऐप फ्रॉड का मामला दो साल पहले का बताया जा रहा है. इस बारे में ईडी से शिकायत कर मामले की जांच करने को कहा गया था.

ED RAID

पार्क स्ट्रीट पुलिस स्टेशन ने आईपीसी की धारा 420, 406, 409, 468, 469, 471, 34 के तहत पिछले साल 15 फरवरी को आमिर खान व अन्य के खिलाफ केस दर्ज किया गया था. फेडरल बैंक के अधिकारियों द्वारा चीफ मेट्रोफोलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट में शिकायत की थी, जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर fir दर्ज कि थी.

लोगों के साथ ऐसे की गई ठगी :आमिर खान ने E-Nuggets नामक एक मोबाइल गेमिंग एप्लिकेशन लॉन्च किया था, जिसे जनता को धोखा देने के इरादे से डिजाइन किया गया था. शुरुआत में यूजर को को कमीशन के साथ इनाम भी दिया जाता था. वॉलेट में शेष राशि को किसी भी समय निकाला जा सकता है. इससे शुरुआत में उन्होंने  लोगों का विश्वास जीता. इससे ज्यादा कमीशन और ज्यादा संख्या में पर्चेज ऑर्डर के लिए लोगों ने निवेश करना शुरू कर दिया था .

ऐसा करके उन्होंने लोगों से अच्छी खासी रकम वसूल ली. इसके बाद अचानक एप से सिस्टम अपग्रेडेशन, एलईए जांच जैसे किसी न किसी बहाने से पैसा निकालने पर पाबंदी लगा दी गई. बाद में प्रोफाइल की जानकारी समेत सभी डेटा को ऐप सर्वरही डिलीट कर दिया गया, जिसके बाद यूर्जर को धोखाधड़ी का अहसास हुआ. ईडी के छापे में पता चला कि उक्त संस्थाएं नकली खातों का उपयोग कर रही थीं.

ED RAID

कांग्रेस ने चीनी लोन ऐप को लेकर खड़े किए थे सवाल

बीते दिनों कांग्रेस ने चीनी लोन ऐप को लेकर केंद्र सरकार पर कई सवाल और निशान खड़े किए थे। पार्टी प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने कहा था कि पिछले 2 साल में चीनी लोन ऐप, जिनकी संख्या लगभग 1100 हो चुकी है, उनमें से 600 अवैध हैं। 2017-2020 के बीच इन ऋण एप से डिजिटल ट्रांजेक्शन में 12 गुना की वृद्धि हुई है। वल्लभ ने दावा किया था कि चीनी ऋण ऐप के कारण देश के 52 लोग आत्महत्या कर चुके हैं।

एजेंसी इस बात की जांच कर रहा है कि इस ऐप और इसके प्रोमोटरों का संपर्क कहीं चीन के नियंत्रण वाले ऐप से तो नहीं है ।

By Nishant