Sun. Nov 27th, 2022
Bharat Biotech: नेज़ल वैक्सीन को मैन्युफेक्‍चरिंग और मार्केटिंग के लिए मिली मंजूरी
Spread the love

Bharat Biotech: नेज़ल वैक्सीन को मैन्युफेक्‍चरिंग और मार्केटिंग के लिए मिली मंजूरी

Feb. माह में मुंबई स्थित ग्‍लेनमाक ने कोविड से ग्रस्‍त Adult रोगियों के इलाज के लिए SaNotize कंपनी के साथ मिलकर भारत में एक नेजल स्‍प्रे लांच किया

हरियाणा के सभी राज्यों की मंडियों के भाव 06 Spt. 2022

Bharat Biotech

NEW DELHI :

 भारत बायोटेक द्वारा कोविड-19 के खिलाफ विकसित नेजल वैक्‍सीन (Nasal vaccine) को ड्रग कंट्रोलर की ओर से आपातकालीन स्थिति में इस्‍तेमाल के लिए मंजूरी मिल गई है. केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मनसुख मंडाविया (Mansukh  Mandaviya) ने एक ट्वीट करके यह जानकारी साझा की.  स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा, “भारत ने पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में अपने विज्ञान, अनुसंधान और विकास-मानव संसाधन का भरपूर उपयोग किया है.”

Bharat Biotech:

फरवरी माह में मुंबई स्थित ग्‍लेनमाक ने कोविड से ग्रस्‍त वयस्‍क रोगियों के इलाज के लिए SaNotize कंपनी के साथ मिलकर भारत में एक नेजल स्‍प्रे लांच किया था.कंपनी ने त्‍वरित अनुमोदन प्रक्रिया के तहत अपने नाइट्रिक ऑक्‍साइड नेजल स्‍प्रे के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (Drugs Controller General of India) से मैन्युफेक्‍चरिंग और मार्केटिंग की मंजूरी मिल गई है.आधिकारिक बयान में कहा गया है, “भारत में तीसरे चरण के ट्रायल काफी हद तक खरा उतररा है और 24 घंटों में वायरल लोड में 94 प्रतिशत और 48 घंटों में 99 प्रतिशत तक की कमी दिखाई दी है.

कंपनी के सूत्रों ने बताया कि हैदराबाद की कंपनी ने करीब 4000 स्वयंसेवकों पर ‘‘इंट्रानेजल टीके” (नाक के जरिये लिए जाने वाले टीके) का क्लीनिकल परीक्षण किया है और किसी में दुष्प्रभाव या विपरीत प्रतिक्रिया नहीं देखी गई है। उल्लेखनीय है कि कंपनी ने अगस्त महीने में बताया था कि ‘‘कोविड-19 इंट्रानेजल टीका” (बीबीवी154) तीसरे चरण के नियंत्रित चिकित्सकीय परीक्षण में सुरक्षित, वहनीय और प्रतिरोधी क्षमता से युक्त साबित हुआ है। टीका निर्माता ने बताया कि बीबीवी154 को विशेष तौर पर नाक के रास्ते देने के लिए तैयार किया गया है।

नेज़ल वैक्सीन
नेज़ल वैक्सीन

कंपनी ने कहा कि इसके साथ ही नाक से टीका देने की प्रणाली को इस तरह से डिजाइन व विकसित किया गया है जिससे यह निम्न व मध्य आय वाले देशों के लिए किफायती हो। कंपनी ने कहा, ‘‘ इंट्रानेजल टीका, बीबीआई154 श्वांस मार्ग के ऊपरी हिस्से में एंटीबॉडी पैदा करता है, जिससे कोविड-19 के संक्रमित करने और प्रसार करने की संभावित क्षमता कम करने में मदद मिलती है।

इस दिशा में और अध्ययन की योजना बनाई गई है।’बीबीवी154 की प्राथमिक खुराक (शुरुआती दो खुराक) के तौर पर प्रभाव और कोविड-19 के अन्य टीके (कोविशील्ड या कोवैक्सीन) की दो शुरुआती खुराक लेने वालों को तीसरी खुराक के तौर पर बीबीवी154 देने पर होने वाले असर का आकलन करने के लिए दो अलग-अलग और साथ-साथ क्लीनिकल परीक्षण किए गए। डीसीजीआई ने अलग से कंपनी को कोवैक्सीन के साथ बीबीवी154 (इंट्रानेजल)की प्रतिरोधक क्षमता और सुरक्षा की तुलना करने के लिए तीसरे चरण का क्लीनिकल परीक्षण करने की भी अनुमति दी थी

pic 1 1

गौरतलब है कि हाल के दिनों में देश में कोरोना संक्रमण के नए मामलों में कमी देखी गई है. भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 4,417 नए मामले सामने आने से संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़कर 4,44,66,862 हो गई है. संक्रमण के नए मामले पिछले तीन माह में सबसे कम हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मंगलवार को सुबह आठ बजे तक के अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण से 23 और मरीजों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या बढ़कर 5,28,030 हो गई है. मौत के इन नए मामलों में केरल द्वारा पुनर्मिलान किया गया एक मामला शामिल है। देश में उपचाराधीन मामले घटकर 52,336 रह गए हैं. देश में छह जून को 3,714 नए मामले सामने आए थे. ”

iPhone 14 Pro: Apple के नये फोन की जाने क्या खूबिया है इस फोन मे सिम कार्ड की भी जरूरत नहीं है ।

By Nishant